आबिदा सुल्तान का जीवन परिचय Abida Sultan Biography In Hindi

0
2


नमस्कार दोस्तों अपने आज के ब्लॉग में हम आपको एक ऐसे शख्स से मिलवाने जा रहे है जिसे आप में से अधिकतर लोग नहीं जानते होंगे। तो दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम आपको आबिदा सुल्तान का परिचय करवाएंगे जो की भोपाल सियासत की राजकुमारी एवं भारत की पहली महिला पायलट थी। उन्हें 25 जनवरी, 1942 को आसमान में उड़ान भरने के लिए लाइसेंस मिला था, मगर आप में से अधिकतर लोग इनके बारे में नहीं जानते होंगे। तो अब दोस्तों बिना समय गवाए हम चलते है आबिदा सुल्तान के जीवन की तरफ कैसे उन्होंने ये मुकाम हासिल किया था और वह कौन थी। 

आबिदा सुल्तान का जन्म और परिवार 

आबिदा सुल्तान का जन्म 28 अगस्त 1913 को मध्य्प्रदेश के भोपाल जिले में हुआ था। उनके पिता का नाम हमीदुल्लाह ख़ान है जो की उस समय भोपाल रियासत के अंतिम नवाब थे। उनकी परवरिश दादी सुल्तान जहां बेगम ने किया था। अपनी दादी के अनुशासन में रहकर बहुत कम उम्र में ही आबिदा सुल्तान कार ड्राइविंग के अलावा घोड़े, पालतू चीतल (चीतल हिरण का एक सुंदर रूप) जैसे जानवरों की सवारी और शूटिंग कौशल में पारंगत प्राप्त कर चुकी थी।

आबिदा सुल्तान का देश के लिए योगदान

आबिदा सुल्तान का जीवन परिचय Abida Sultan Biography In Hindi

1949 में वे अखिल भारतीय महिला स्क्वैश की चैंपियन रहीं थी। आबिदा का निकाह 18 जून, 1926 को कुरवाई के नवाब सरवर अली ख़ान के साथ हुआ था। दादी की प्रिय पोती आबिदा पहली बार पिता के उत्तराधिकारी का अनुमोदन प्राप्त करने के लिए अपनी दादी नवाब सुल्तान जहां बेगम के साथ 1926 में लंदन गईं थीं। देश के विभाजन की उथल-पुथल के बाद  1949 में उन्होंने भारत छोड़ दिया और पाकिस्तान चली गई। आबिदा सुल्तान ने अपना आशियाना पाकिस्तान के कराची में बनाया और अपनी गतिविधियां जारी रखीं। उन्होंने सन 1954 में संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व और सन 1956 में चीन का दौरा किया। धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र में विश्वास रखने वाली आबिदा साल 1960 में मार्शल कानून के विरोध में फातिमा जिन्ना- जो मोहम्मद अली जिन्ना की बहन थीं, का साथ दिया था। वे महिला अधिकारों की पक्षधर थीं। जनवरी 1954 में पिता द्वारा भोपाल वापस लौटने की पेशकश को उन्होंने ठुकरा दिया था। आबिदा 12 वर्षों तक अपने पिता से दूर रहीं, लेकिन उनकी मृत्यु के समय वे भोपाल लौट आयी थी।

आबिदा सुल्तान की मृत्यु

आबिदा सुल्तान अक्टूबर 2001 तक अनेक रोगों से ग्रस्त हो चुकी थी। 27 अप्रैल, 2002 को कार्डियक ऑपरेशन के लिए उन्हें शौकत उमर मेमोरियल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहाँ 11 मई, 2002 को उनका निधन हो गया। उनके पुत्र शहरयार मोहम्मद ख़ान पाकिस्तान में विदेश सचिव रहे है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here